Skip to main content

सिंह के बदले सिंह को ही चुना भाजपा ने

पत्रकार भीम सिंह सीहरा की कलम से...
आखिरकार आज भाजपा ने तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा कर दी। जबलपुर सांसद राकेश सिंह ने आज भाजपा के  नए प्रदेशाध्यक्ष पद की शपथ ली। सिंह की नियुक्ति को लेकर कहा जा रहा है कि यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पंसद हैं। लेकिन वर्तमान में चल रहे घटनाक्रम को देखकर ऐसा लग रहा है कि नए प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की पंसद है। यानि सिंह के बदले में सिंह को ही लाया गया है। इसके कई सारे कारण साफ नजर आते हैं। शिवराज भले ही जनता की पहली पसंद हो, लेकिन चुनाव के मामले में अदभुत संगठनात्मक क्षमताओं वाले नरेंद्र सिंह ताेमर का कोई तोड़ पार्टी को नजर नहीं आ रहा है। वजह भी ठोस है। पिछले दो चुनाव में शिवराज और नरेंद्र सिंह ताेमर की जोड़ी ने जिस तरह से शानदार जीत दिलाई वह सबके सामने है। इस बार तोमर प्रदेशाध्यक्ष के लिए इच्छुक नहीं थे तो पार्टी ने नरोत्तम मिश्रा, वीडी शर्मा, भूपेंद्र सिंह समेत अन्य कई नामों पर विचार किया। मगर मामला जमा नहीं। देर रात राकेश सिंह के नाम पर सहमति बनी या यूं कहें कि पहले से ही यह नाम तय था। इस नाम को तय करने में परदे के पीछे से भूमिका नरेंद्र सिंह की बताई जाती है। प्रदेशाध्यक्ष के साथ चुनाव प्रबंध समिति की घाेषणा कर दी गई और नरेंद्र सिंह तोमर को ही संयोजक बनाया गया। इशारा साफ है कि इस बार भी शिव-नरेंद्र की जोड़ी ही चुनाव लड़वाएगी। दूसरी तरफ मप्र में निकाली जा रही है किसान सम्मान यात्रा के पीछे भी तोमर का ही दिमाग बताया जाता है। किसान सम्मान यात्रा की अगुवाई तोमर के खास और पूर्व विधायक रणवीर सिंह रावत ही कर रहे हैं। रणवीर अभी किसान मोर्चे के प्रदेश अध्यक्ष हैं और तोमर ने ही उन्हें यह जिम्मेदारी दिलवाई थी। ऐसा लगता है कि चुनाव तक यह जोड़ी मिलकर काम करेगी और परिणाम यदि प्रतिकूल रहता है तो प्रदेश में मुखिया बदला जा सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

पुत्र के राज में पितातुल्य किसानों पर गोलीचालन

सुना था सत्ता के लिए मुगल सम्राट ने अपनों का कत्ल कर दिया था। लेकिन  कलयुग में किसान के बेटे ने अपने पितातुल्य किसानों पर ही गोली चलवा दी। इसके बाद सरकार के गृहमंत्री द्वारा पुलिस गोलीचालन से मुकरना, आंदोलनकारी किसानों को विराेधियों द्वारा भड़काना तथा उन्हें असामाजिक तत्व करार देना आश्चर्यजनक है। फिर सरकार के मुखिया द्वारा मृत किसानों के परिजनों को एक करोड़ रुपए तथा घायलों को पांच लाख रुपए की सहायता देना भी अचंभित करता है। यह राज्य सरकार की अक्षमता, अदूरदर्शिता, अज्ञानता और अति भयभीत होने का प्रमाण है। जब आंदोलनकारी किसान नहीं थे तो कौन थे? गोली पुलिस ने नहीं तो किसने चलाई? अगर पुलिस की गोली से किसान नहीं मरे तो फिर इतना मुआवजा देने का क्या औचित्य है? सरकार के मुखिया और उसके गृहमंत्री द्वारा अटपटे बयान देने से जाहिर है कि शिवराज सरकार कितनी अपरिपक्व है। सरकार की असंवेदनशीलता का इससे बड़ा नमूना क्या होगा कि आंदोलनकारियों से सरकार के किसी भी नुमांइदे ने बात करने की कोशिश नहीं की। आंदोलन को विफल करने के लिए आरएसएस से जुड़े भारतीय किसान संघ से आंदोलन स्थगित कराने का बयान दिलवाया। जबकि संघ का

भाजपा का सपना कांग्रेस कर रही है पूरा

आखिरकार पांच राज्यों के चुनाव संपन्न हो गए और परिणाम सामने है। लेकिन इस पूरे चुनाव में परिणाम के बाद जितनी चर्चा अम्मा (जयललिता) और दीदी (ममता बनर्जी) की जीत की नहीं हुई, उतनी कांग्रेस मुक्त भारत की हुई। हो भी क्यों न, आखिर देश की सबसे बड़ी पार्टी इस समय देश की सबसे छोटी पार्टी बनने की कगार पर पहुंच गई है। एक समाचार पत्र ने आंकलन किया है कि कांग्रेस अब देश के बीस प्रतिशत हिस्से में ही बची है। अब सवाल यह उठ रहे हैं कि कांग्रेस मुक्त भारत का सपना पूरा करने में भाजपा की मदद जनता कर रही है या फिर कांग्रेस स्वयं अपने कर्मो से इस हाल में पहुंच गई है। बहुत सारी बातें हो रही है चुनाव जीतने व हारने को लेकर और मैं इतना अनुभवी भी नहीं कि कोई ठोस कारण बता पाऊं। लेकिन एक बात जो मुझे समझ में आई कि कांग्रेस का हाल कुछ-कुछ नोकिया जैसा हो गया। एक समय नोकिया बाजार में एकछत्र राज्य करता था, लेकिन समय के साथ बदलाव नहीं किया यानि नए सिस्टम एंड्राइड को नहीं अपनाया तो आज बाजार में कई पायदान नीचे है। जबकि भाजपा सेमसंग की भांति नए फंडे अपनाकर आगे की तरफ बढ़ रही है। कमाल की बात तो यह है कि जिन