Saturday, December 27, 2014

न देखा होगा मोदी सा धनुर्धर

उस दिन जब सुबह-सुबह बनारस के अस्सी घाट पर मोदी निरीक्षण कर रहे थे तो उनके हर कदम के साथ एक तीर कई निशानें पर जाकर लग रहा था। उन्होंने आज एक बार फिर साबित कर दिया है कि वे हर एक दिन में एक इतिहास गढ़ने के लिए आए हैं। हालांकि अखबार, पत्र-पत्रिकाएं मोदी के मल्टी टैलेंटेड पीएम होने के बारें में सैंकड़ों आर्टिकल लिख चुके हैं। लेकिन जब पीएम मोदी ने उस दिन एक तीर से कई निशाने लगाए तो लगा कि इस विषय में लिखना चाहिए।आपने देखा कि किस तरह से 24 दिसंबर को यानी अटलजी व मालवीय जी को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा इन दोनों के जन्मदिन के ठीक एक दिन पहले की गई। ठीक एक दिन बाद यानी आज मोदी सीधे बनारस पहुंच गए और वहां की जनता को याद दिलाया कि उन्होंने वादा किया था कि पंडित मदनमोहन मालवीय भारत रत्न हैं सो उन्हें वो दिया जा रहा है। इस वादे के अलावा उन्होंने भारत को स्वच्छ करने की जो मुहिम शुरू की तो उसे लेकर वह कितने गंभीर हैं यह भी आज दिखाई दिया।साथ ही स्थानीय नरेश की स्मृति को याद करके भी उन्होंने लोगों के मन को जीत लिया। अपने संसदीय क्षेत्र में उस दिन पहुंचकर देश के और खासतौर सं भाजपा के सांसदों को बताया कि यदि चाहे तो कोई सांसद कितनी ही बार क्षेत्र में जा सकता है और अन्य सभी जरूरी काम भी कर सकता है। ये मैसेज खासतौर से उन सांसदों को दिया गया था जो कहते हैं कि वे समयाभाव के कारण अपने संसदीय क्षेत्र में नहीं घूम पाए। लिखने को बहुत कुछ है आगे के आर्टिकल के लिए बाकी।

No comments: