Wednesday, February 4, 2009

राजनीति के खेल में मिलेगी पप्‍पुओं को जगह

बहुत दिनों से सोच रहा थाक‍ि राजनीति के बारे में अपने विचारों को व्‍यक्‍त करुं लेकिन ऐसा हो न सका । फिर आज नया दिन निकला नया विचार आया और मैंने राजनीति इन दिनों के नाम से एक नया ब्‍लॉग बना दिया। चूंकि माहौल लोक सभा चुनाव का है तो बात की जाए देश्‍ा यानि भारत की राजनीति की। पूरे देश्‍ा में राजनीति की चर्चा है यह सही है लेकिन उस पूरी चर्चा में सबसे ज्‍यादा जो मुझे आकर्षित कर रही है वह है पप्‍पुओं को राजनीति में मौका देने की बात। हालांकि इस समय देश में कांग्रेस और समाजवादी गठबंधन टूटने और कल्‍याण सिंह के भाषण की सबसे ज्‍यादा चर्चा है। क्‍योंकि यही दो मसले ऐसे हैं जिनका आने वाले लोकसभा चुनाव में सबसे ज्‍यादा होने वाला है। फिलहाल मेरे इस नये नवेले लेख की हैडिंग है उसके अनुसार में हम पास और फेल की बात कर रहे हैं। इस समय कौन पास होगा और कौन नहीं इसका अंदाजा लगाना काफी मुश्किल है, लेकिन इतना तय करना कतई मुश्किल नहीं है कि आने वाले चुनावों से देश की राजनीति और भविष्‍य को नई धारा व नई दिशा मिलेगी। इसका सबसे बडा कारण है पप्‍पुओं को प्राथमिकता से मौका दिया जाना। कांग्रेस अपने पप्‍पु राहुल गांधी जो कि गांधी नाम पर तेजी से आगे बढ् रहे हैं। जैसे कि भाजपा राम के नाम पर आगे बढती रही है। खैर ये हम युवाओं के लिए तो बेहतर अवसर ही होगा जब देश में एक साथ वाकई युवा नेता देखने को मिलेगे (अगर बूढे पप्‍पुओं को दिक्‍कत न हुई तो)। इस राह में बढे धोखे हैं लेकिन उम्‍मीद पर दुनिया कायम है।
आज ज्‍यादा नहीं लिखुंगा क्‍योंकि मामला राजनीति का है और इसलिए मुझे थोडा अध्‍धयन करना होगा और सभी ब्‍लॉगर बंधुओं से आशा है कि उन्‍हें मेरे ब्‍लॉग में जो आपत्ति होंगी वे उसे मुझे जरूर बताएंगे और राजनीति के बारे में लिखने में मेरी मदद करेंगे।
-भीमसिंह मीणा

No comments: