Saturday, February 12, 2011

बातों से बगावत नहीं होती कभी
उठा पत्थर खड़े-खड़े हाथ क्यों मलता है

No comments: